कृषि वानिकी योजना (पॉप्लर ई0टी0पी0) 2021: krishi vaniki poplar ETP Yojana

कृषि वानिकी योजना | krishi vaniki poplar | बिहार कृषि वानिकी योजना | krishi vaniki poplar ETP Yojana |मुख्यमंत्री कृषि वानिकी स्कीम

बिहार राज्य सरकार ने कृषि वानिकी योजना (पॉप्लर ईटीपी) 2021 की शुरुआत की है। किसानों को इस योजना का लाभ पहुंचाया जाएगा। हमारे किसान भाई इस योजना से जुड़ कर विभिन्न प्रजातियों के पौधे का मूल्य में अपने खेतों में लगा सकते हैं जिससे उन्हें अधिक लाभ प्राप्त होगा। कृषि वानिकी योजना को जल जीवन हरियाली स्कीम से जोड़ा जाएगा। बिहार सरकार ने कृषि वानिकी पॉपुलर ईटीपी योजना शुरू की ताकि पर्यावरण वन और जलवायु को सुरक्षित रखा जा सके। और साथ साथ ही इस स्कीम के माध्यम से हमारे किसान भाइयों की आर्थिक स्थिति में भी सुधार किया जाएगा। आज हम आपको इस Article के माध्यम से योजना से जुड़ी सारी जानकारी प्रदान करेंगे यदि आपको योजना से जुड़ी सारी जानकारी जानना चाहते हैं तो आप इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

मुख्यमंत्री कृषि वानिकी स्कीम

इस योजना में शामिल होने वाले हमारे सभी किसान भाइयों को ₹10 प्रति पौधे के हिसाब से पॉप्लर पौधा दिया जाएगा। इसी पौधे के वृक्षारोपण से हमारे किसान भाइयों को अधिक से अधिक लाभ प्राप्त होगा। पॉप्लर के वृक्ष का वृक्षारोपण करने के लिए 10 फीट न्यूनतम ऊंचाई एवं 2.5 तक गोलाई उपलब्ध की जाती है। मुख्यमंत्री कृषि वानिकी योजना 2021 में शामिल होने वाले सभी किसान भाइयों को पॉप्लर के वृक्ष₹10 में स्थानीय से मिल जाएंगे। इसके वृक्षारोपण से किसानों की आय में वृद्धि हो जाएगी। हमारे किसान भाई को पौधे बड़े होने पर लाभ मिलेगा।

पॉप्लर (popler) वृक्ष की जानकारी

पॉपलर का वृक्ष एक पतझड़ी वृक्ष है, इसको जल्दी उठने के लिए आदर्श जलवायु होनी चाहिए। पॉप्लर की लकड़ी से प्लाई बोर्ड, माचिस के तिलिया, खेल की वस्तुएं, पेंसिल इत्यादि वस्तुओं का निर्माण किया जाता है। पॉप्लर का पौधा भारत में 5 से 7 साल में 50 फीट या उससे ज्यादा तक भी बढ़ सकता है। पापुलर की वृक्षारोपण के लिए मिट्टी का pH मान 5.8-8.5 होनी चाहिए। इसका वृक्षारोपण भारत के मैदानी इलाकों में ज्यादातर किया जाता है।

बिहार आंगनबाड़ी लाभार्थी योजना ऑनलाइन पंजीकरण: Bihar Anganwadi Labharthi Yojana

कृषि वानिकी (पॉप्लर ईटीपी) योजना के उद्देश्य

कृषि वानिकी (पॉप्लर ईटीपी) स्कीम का मुख्य उद्देश्य है कि कृषि वानिकी योजना में पॉपलर के वृक्षारोपण के लिए आवश्यकता के अनुरूप वृक्ष तैयार करना जिसके माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध कराया जा सके। इस योजना से राज्य के किसान भाइयों की आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाया जाएगा। इस योजना के शुरुआत करने से आसपास के पर्यावरण भी सुरक्षित रहेंगे और पापुलर प्लांट के चारों तरफ हरियाली रहेगी। यदि हमारे किसान भाई वन विभाग से खरीदे गए पौधे में से 50 परसेंट पौधों को 3 साल तक सुरक्षित रखते हैं तो उन्हें 60 रुपए प्रति पेड़ के हिसाब से अनुदान राशि प्राप्त कराई जाएगी।

योजना का नामकृषि वानिकी (पॉप्लर ई0टी0पी0) योजना
योजना का लाभकिसानों की आमदनी में वृद्धि
योजना के लाभार्थीबिहार राज्य के किसान
योजना कब शुरू की गयीबिहार राज्य सरकार के द्वारा
योजना का उद्देश्यराज्य के किसानों को आर्थिक मजबूती प्रदान करना
ऑफिसियल वेबसाइट forestonline.bih.nic.in

पॉप्लर ईटीपी के लाभ

  • इस योजना में शामिल होने वाले सभी किसान भाई को पर्यावरण तथा वन विभाग के स्थानीय कार्यालय से पॉपलर की कटिंग सुविधा निशुल्क उपलब्ध कराई जाएगी।
  • इस योजना के लाभार्थी किसान भाइयों को कटिंग के लिए ₹10000 प्रति एकड़ के हिसाब से उपलब्ध किया जाएगा।
  • हमारे किसान भाइयों को पॉपलर ईटीपी की देखरेख करने के लिए कृषि वानिकी के तहत सभी जानकारी प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना का लाभ लेने वाले किसान भाइयों को स्थानीय पौधशालो से ₹10 के हिसाब से पॉपलर के पौधे प्राप्त होंगे।
  • पॉप्लर के प्लांट में संपूर्ण अधिकार किसानों का ही होगा जिससे पौधे बड़े होने पर किसानों को पूर्ण लाभ मिलेगा।
  • इस योजना के द्वारा हमारे किसान भाइयों की आय में वृद्धि होगी।
  • कृषि वानिकी के माध्यम से किसान भाई के खेत में मेलों के किनारे डेढ़ लाख पॉपलर प्रजाति के पेड़ों की रोपाई की जाएगी।
  • राज्य के डेढ़ सौ एकड़ गैर सरकारी भूमि में पॉपलर पौधशालाओं की स्थापना कराई जाएगी।
  • हरियाली मिशन लक्ष्य के तहत पॉपलर के पेड़ों का रोपण कराया जाएगा।

कृषि वानिकी पॉपलर ईटीपी की पात्रता

कृषि वानिकी योजना के लिए आवेदक का अपने नाम पर या प्लीज (कम से कम 3 वर्षों के लिए) पर जमीन होनी चाहिए।
पॉप्लर के वृक्ष लगाने के लिए जमीन ऊंची समतल तथा जलजमाव मुक्त होनी चाहिए।
आवेदक किसान के पास योजना के तहत उसके बैंक खाते में ₹20000 होना अनिवार्य है।
किसान के पास पॉप्लर के पौधे की सिंचाई के लिए उचित व्यवस्था होनी चाहिए।
इस योजना के आवंटन के लिए प्रति व्यक्ति के अनुसार जमीन को आधा एकड़ से 3 एकड़ तक रखा गया है।

आवश्यक दस्तावेज

  • भू स्वामित्व प्रमाण पत्र
  • अपडेट की हुई लगान की रसीद
  • लीज डीड की फोटो कापी
  • बैंक में ₹20000 जमा होने का प्रमाण बैंक पासबुक का विवरण

मुख्यमंत्री कृषि वानिकी योजना ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया (Online Application Process)

  • राज्य के जितने भी इच्छुक किसान कृषि वानिकी पॉपुलर ईटीपी योजना का आवेदन करना चाहते हैं वे नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।
  • सर्वप्रथम आपको एनवायरमेंट एंड फॉरेस्ट डिपार्टमेंट की अधिकारिक वेबसाइट में जाना होगा जिसके बाद होम पेज खुलेगा।
  • होम पेज में आपको मेनू सेक्शन में ऑनलाइन अप्लाई के लिंक पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने एप्लीकेशन फार्म खुल जाएगी।
  • अब आपको एप्लीकेशन फॉर में दी गई सभी जानकारी को सही सही भरनी है।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको जनरेट ओटीपी के विकल्प पर क्लिक करना है ओटीपी आपके द्वारा दिए गए मोबाइल नंबर पर जाएगी।
  • ओटीपी नंबर को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करने के पश्चात प्रोसीड बटन पर क्लिक करना है।
  • जिसके बाद आपके मोबाइल पर 12 नंबर का रजिस्ट्रेशन आईडी मिलेगा। यदि आपके आवेदन पत्र में कोई त्रुटि है तो इस आईडी के माध्यम से उसे सुधार सकते हैं।
  • अब आपको अगले पेज में पौधे की प्रजाति तथा पौधे की संख्या बतानी है।
  • सभी जानकारी देने के पश्चात सेव ड्राफ्ट के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • यदि आप फाइनल सबमिट के विकल्प पर क्लिक करेंगे तो आपके आवेदन पत्र में कोई सुधार नहीं किया जा सकता है।
  • यदि आप सेव एज ड्राफ्ट ऑप्शन पर क्लिक करें रहेंगे तो आप आवेदन पत्र को संशोधन कर सकते हैं।
  • संशोधन करने के लिए आपको ऑलरेडी रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करके 12 अंकों का रजिस्ट्रेशन नंबर दर्ज करना होगा।
  • अब आपको आवेदक को फार्म के साथ अपने डॉक्यूमेंट और पासपोर्ट साइज फोटो को अपलोड करना है।
  • आवेदन पत्र को जमा करने के लिए फाइनल सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • जिसके बाद आप अपने आवेदन पत्र को प्रिंट एप्लीकेशन के विकल्प पर क्लिक करके प्रिंट आउट कर सकते हैं।

कृषि वानिकी पॉपलर ईटीपी योजना से संबंधित सवाल तथा उनके जवाब

कृषि वानिकी(पॉपलर ईटीपी) योजना किसके द्वारा लांच किया गया?

कृषि वानिकी योजना को बिहार राज्य सरकार द्वारा लांच किया गया।

राज्य के किसानों को कृषि वानिकी स्क्रीन के तहत पॉपलर के वृक्ष को कहां उपलब्ध कराया जाएगा?

राज्य के किसानों को कृषि वानिकी योजना के तहत पापुलर के पेड़ों को स्थानीय और शालाओं में उपलब्ध कराया जाएगा।

पॉपलर के वृक्ष को किस किस क्षेत्र में उगाया जाता है?

पॉपलर के पेड़ को अधिकतर मैदानी इलाकों में उगाया जाता है।

कृषि वानिकी योजना के तहत पॉप्लर के वृक्ष उगाने के लिए किस प्रकार की भूमि होनी चाहिए?

पॉपलर के वृक्ष को उगाने के लिए समतल और ऊंची भूमि होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक रोजगार ऋण योजना

Leave a Comment